top of page

हाथ आपका जैसे मेरे कंधों पर

हाथ आपका जैसे मेरे कंधों पर –

रात हमारे नाम नज़्म लिख गई ।

सुबह गाने लगी दर-ब-दर कि आज बात हो गई ।

दोपहर में तपते हुए पेड़ झूम उठे जैसे शाम हो गई ।

शाम की तनहाई को रात में पनाह मिल गई ।

रात जैसे आज ख़ुद ही सो गई ।

हाथ आपका जैसे मेरे कंधों पर ।



4 views0 comments

Recent Posts

See All

B&W

Comentários


  • Twitter
  • Instagram

Science journalist, communicator & writer

bottom of page